Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Breaking News:

latest

Advertisement

Poem: तुम्हारी और ज्यादा याद आती है Tumhari Aur Jyada Yaad Aaati Hai

यात्राओं में तुम्हारी और ज्यादा याद आती है कारण है तुम्हारा परवाह करना पिछली बार घर जाते समय तुम साथ थे और साथ थी तुम्हारी हजार तरह...


Ads by Eonads


www.khushiji.com


यात्राओं में


तुम्हारी और ज्यादा याद आती है

कारण है तुम्हारा परवाह करना

पिछली बार घर जाते समय

तुम साथ थे

और साथ थी

तुम्हारी हजार तरह‌ की हिदायतें

कान ढकें रहना

खिड़की खुली मत रखना

फोन चार्ज कर लेना

जागी रहना हम फोन करते रहेंगे

पहुंच कर सबसे पहले फोन करना

और हमको याद करना

देखो मैं तुम्हें याद कर रही हूं....

.....एकता कर्ण





No comments